Precise and easy tips to reduce Mental stress (तनाव कम करने के सटीक व आसान उपाय)

तेज़ी से बदलते माहौल में हमारे शरीर और मन पर जो असर पड़ता है, उसे तनाव कहते है। तनाव दो तरह का होता है। निरन्तर तनावग्रस्त बने रहना जीवन में हानिकारक है। चूँकि जीवन-उद्देश्य आपके सामने है, तनावग्रस्त से दूर रहना ही आपके लिए श्रेष्ठतर होगा। अतः आप तनाव के बहुत से कारकों से बचें, और साथ में ये उपाय भी  करे, जो आप आसानी से कर सकते हैं ।

तनाव आपके शरीर में उत्पन हुई एक सामान्य प्रतिक्रिया होती है जब आप अपने आपको किसी संकट से घिरा पाते हैं या आपका मानसिक सुंतलन बिगड़ जाता है। तनाव से जुड़ी प्रतिक्रिया आपको चुनौतियों का सामना करने में सहायता करती है। पर एक सीमा के बाद, यही तनाव कोई भी सहायता करना बंद कर देता है और आपके स्वास्थ्य, आपके मूड, आपकी उत्पादकता, आपके संबंधों और आपके जीवन की गुणवत्ता पर प्रतिकूल असर करता है।  तेज़ी से बदलते माहौल में हमारे शरीर और मन पर जो असर पड़ता है, उसे तनाव कहते है। तनाव दो तरह का होता है।

जिनसे खत्म होगा मानसिक तनाव

  • संध्या समय पर खाना न खाएं
  • रात में झूठे बर्तन न रखें।
  • शाम के समय घर में सुगंधित एवं पवित्र वातावरण रखें।
  • संध्या समय पर स्नान न करें।
  • किचन में पानी और अग्नि साथ न रखें।
  • चांदी के गिलास में दिन में एक बार पानी जरुर पियें, इससे क्रोध पर नियंत्रण होता है।
  • कंटीले पौधे जैसे कैक्टस घर में नहीं लगाएं।
  • अपने घर में चटकीले या भार्किला रंग नहीं कराये।
  • शयन कक्ष में मदिरापान नहीं करें।
  • पारद शिवलिंग को एकाग्रता से देखे ।
  • घर में मकड़ी के जाले न लगने दें, इससे मानसिक तनाव बढ़ जाता है।
  • भोजन रसोईघर में बैठकर ही करें।
  • किचन का पत्थर काला नहीं रखें।
  • घर में कोई रोगी हो तो दिन के काल में कटोरी में केसर घोलकर उसके कमरे में रखे दें।
  • घर में ऐसी व्यवस्था करें कि वातावरण शुद्ध और सुगंधित रहे। सुगंधित वातावरण से मन में प्रसन्नता रहती है।

इन छोटे-छोटे उपायों से आप शांति का अनुभव जरुर करेंगे। ज्योतिष उपायों, वास्तु कंसल्टेशन, आदि की प्राप्ति हेतु आप एस्ट्रोदेवम डॉट कॉम  (AstroDevam.com) से संपर्क कर सकते हैं। कंसल्टेशन या अधिक जानकारी के लिए आप हमारे अनुभवी ज्योतिषी आचार्य कल्कि कृष्णन से संपर्क करें।  

Comments

    There are no comments under this post.

Leave A reply